This is not so much due to allergies

कहीं इस वजह से तो नहीं होती आपको एलर्जी

एलर्जी हमारे इम्यून सिस्टम का अबनॉर्मल रिस्पॉन्स है। आप कुछ भी खाते हैं या जो अप्लाई करते हैं, यह उसका रिऐक्शन भी हो सकता है। जानें इनसे बचने के उपाय…

-आमतौर पर मोल्ड, पॉलेन या एनिमल डैंडर से एलर्जिक रिऐक्शन होता है। सांस लेने या खाने के दौरान इनसे हमारा एक्सपोजर होता है। आंखों से पानी आना या खुजली होना, स्नीजिंग, बहती नाक, रैशेज, रेड पैचेज के साथ रैशेज या फिर थकान महसूस करना- एलर्जी के सामान्य लक्षण हैं।

– कई बार आपको पता नहीं चल पाता कि एलर्जी हो गई है, बस थोड़ा थका हुआ महसूस करते हैं। हल्के लक्षण से जहां आपको बुखार या कोल्ड हो सकता है, वहीं गंभीर लक्षण से ज्यादा बीमार पड़ने की आशंका रहती है। गंभीर एलर्जिक रिऐक्शन पूरी बॉडी में इचिंग, ब्रेदलेसनेस, थ्रोट में टाइटनेस, हाथों और पैरों में सिहरन लेकर आता है।

– एलर्जी के कारणों में दूध, नट्स, व्हीट्स और एग्स सबसे कॉमन हैं। सबसे अच्छी बात तो यह रहेगी कि आप ऐसी चीजों को अवॉइड करें, जिनसे आपको एलर्जी होती है। हां, अगर गलती से खा ही लिया तो तुरंत डॉक्टर की सलाह लीजिए।

– एलर्जी किसी भी उम्र में हो सकती है, लेकिन बच्चों में यह कॉमन होता है। हेरेडेटी का भी इसमें खास रोल होता है। मतलब यह कि आपके परिवार में अगर किसी को एलर्जी है, तो यह आपको भी हो सकती है। इसके साथ ही यह भी हो सकता है कि आपके माता-पिता दोनों को ही एलर्जी हो, लेकिन आप इसके शिकार न हों। आपके आसपास का माहौल भी इसके लिए काफी हद तक जिम्मेवार है। कई बार स्मोक, पल्यूशन और हार्मोंस- एलर्जी के कारण होते हैं।

– हर दो सप्ताह के बाद घर के परदे बदल डालें। अगर घर में किसी को एलर्जी की प्रॉब्लम है तो और भी जल्दी चेंज कीजिए। कपड़ों और परदों को गर्म पानी में धोइए। इसमें कुछ बूंदें यूक्लिप्टस ऑयल की डालने से कीड़े-मकोड़े नहीं रहेंगे।

Advertisements

About Auraiya

Auraiya - A City of Greenland.
This entry was posted in Auraiya, Health, Life Style, UP, Uttar Pradesh and tagged , , . Bookmark the permalink.

One Response to This is not so much due to allergies

  1. Auraiya says:

    सबसे अच्छा है की दिन के एक समय मे फलाहार पर रहा जाये/ जरूरी नही है की मेहनगे ही फल खाये जांये/ चीनी और नमक का कम से कम इस्तेमाल करने से आप कई अन्य बीमारीओं से भी बच सकते है/ पर भारित्य खाने और व्यजनो मे अधिक मिर्च मसाले और नमक ना और मीठा ना हो तो भारित्य अपनी पत्नियों को ही कोसना शुरु कर देते हैं/ क्या बेकार का खाना बनाया है, अंत मे यही उतर होता है/

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s