Eat less salt to reduce pot belly

बड़ी तोंद नहीं चाहते हैं तो नमक कम खाइए

बढ़ते मोटापे से देश में सभी परेशान हैं। जिसे देखो बाहर निकले पेट से परेशान है। पेट का बाहर निकल आना न सिर्फ भद्दा लगता है, बल्कि कई बीमारियों को न्यौता देने वाला भी साबित हो सकता है। लेकिन, अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं। वैज्ञानिकों ने इसका उपाय खोज लिया है। एक स्वास्थ्य विशेषज्ञ के अनुसार, प्रतिदिन अपने भोजन में नमक की मात्रा घटाकर और पोटैशियम से भरपूर फाइबर युक्त भोजन खाकर हम तोंद से बच सकते हैं।

fitness

अमेरिका के वॉशिंगटन में डाइजेस्टिव सेंटर की स्थापना करने वाले गैस्ट्रोइंट्रोलॉजिस्ट रॉबिन चुटकन ने अपनी नई पुस्तक में कहा है कि पुरुषों की अपेक्षा महिलाओं में तोंद निकलने की शिकायत अधिक होती है। इसका मुख्य कारण यह है कि औरतों के आंत की लंबाई अधिक होती है।

वेबसाइट फीमेलफर्स्ट डॉट को डॉट यूके के अनुसार, चुटकन ने अपनी इस नई पुस्तक में बताया है कि महिलाओं एवं पुरुषों के पाचन तंत्र में कुछ मूल अंतर होते हैं। इसलिए पेट को निकलने से बचाने के लिए कुछ परहेज बरते जाने चाहिए।

चुटकन ने सुझाया है:

नमक कम खाएं: भोजन में नमक का अधिक प्रयोग करने से भी पेट फूल सकता है। एक दिन में अधिकतम 1,500 मिलीग्राम नमक ही खाना चाहिए।

अधिकतर रेशेयुक्त भोजन लें: घुलनशील एवं अघुलनशील रेशेयुक्त भोजन की मिश्रित मात्रा का प्रयोग करना चुस्त-दुरुस्त एवं छरहरा रहने का सबसे अच्छा तरीका है। पेट के अत्यधिक भरे होने से बचें, क्योंकि इससे कब्ज होती है।

पोटैशियम से भरपूर भोजन लें: सोडियम चूंकि शरीर में जल के स्तर को बनाए रखता है, वहीं पोटैशियम अतिरिक्त जल से निजात दिलाने में मददगार होता है। केले और शकरकंद जैसे पोटैशियम से भरपूर खाद्य पदार्थ का सेवन करने से कमर के मध्य हिस्से को पतला करने में मदद मिलती है।

शरीर में पानी की मात्रा बरकरार रखें: पर्याप्त मात्रा में पानी का सेवन करने से भोजन के रेशे अपना कार्य कहीं बेहतर तरीके से कर पाते हैं और कब्ज की शिकायत को दूर रखते हैं।

पाचन के तनाव से बचें: ऐसे खाद्य पदार्थों से दूर रहें जो पचने में मुश्किल हों, जैसे चीनी या वसायुक्त खाद्य पदार्थ।

कृत्रिम मिठास वाले पदार्थों से बचें: फ्लेवर्ड पेय पदार्थों, कम कार्बोहाइड्रेट वाले एवं चीनी रहित खाद्य पदार्थों को हमारा शरीर आसानी से नहीं पचा पाता। बड़ी आंत में पाए जाने वाले जीवाणु उन्हें फर्मेंट करने की कोशिश करते हैं, जिसके कारण पेट में गैस बनती है और पेट फूल जाता है।

Advertisements

About Auraiya

Auraiya - A City of Greenland.
This entry was posted in Auraiya, Health, Life Style, UP, Uttar Pradesh and tagged , , , , . Bookmark the permalink.

2 Responses to Eat less salt to reduce pot belly

  1. Auraiya says:

    यदि आपको फिट और रोग मुक्त रहना है तो रोज एक्सर्साइज़ करना जरूरी है, कम से कम कर्डिओ करते रहिये, कोई भी कॉरबोहाइड्रेट वाला फुड अवाय्ड कीजिये लिके राइस, रोटी आप ब्राउन राइस खा सकते हैं..छोकर युक्त रोटी खाइये, फ्रूट्स आंड वेजिटेबल ज्यादा खाइये, आलू खाइये बिना आयिल के ए स्वास्थ्य के लिये बहुत अच्छा है, ग्रीन ऑलिव खाइये, अखरोट और बदम खाइये, यदि आप नॉन वेज खाते हैं तो सिर्फ चिकन, एग वाइट और फिश खाइये वो भी ग्रिल्ड, दिन में कम से कम 3 मील जरूर लीजिये.. मिठैइ, सामोशा, कचौड़ी, नमकीन, भुजिये, कुछ भी फ्राइड, बीफ, मटन, ट्रांस फॅट, पकोड़े, फुल क्रीम मिल्क़ और दही, घी, एग का येल्लो पार्ट कभी मत खाइये हमेशा स्वस्थ रहेंगे.

  2. Auraiya says:

    शारीरिक श्रम का कोई विकल्प नहीं है..पेट निकलने से बचना है तो नियमित रूप से सुबह-शाम घूमना..रोज़ हल्का व्यायाम करना..तले-मीठे से थोड़ी सी दूरी जैसे नियमित कार्यों से ही बच पाएंगे! हम मूलतः शाकाहारी हैं इसलिए घी..मिठाई..जैसी वस्तुएं सामान्यतः लेते ही हैं और शरीर की लिए जरूरी हैं..इन्हें सिर्फ एक सीमा में लें!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s